असंग घोष
 

आ मेरे साथ बैठ  

तू
आ मेरे साथ बैठ
बीड़ी पी
फेफड़े जला
घन उठा
पत्थर तोड़
पसीना बहा
हथोड़ा - छैनी पकड़
पत्थर तराश
बना खजुराहो की
मैथुन रत मूर्तियां
अथवा
प्रेम का प्रतीक ताजमहल
और अपने हाथ कटा ,


तू
आ मेरे साथ बैठ
चिलम पी
सुट्टा लगा
फिर दोनों मिलकर
साफ़ करते हैं
बजबजाती गन्दगी
बास आये तेरे पास तक
तो बंद कर लेना
अपनी नाक


तू
आ मेरे साथ बैठ
खालिस एक फूल की
महुआ पी
फिर पोथी - पतरा छोड़
जनेऊ उतार
उससे खाल सिल
जुट जा
मेरे साथ
चमड़ा पकाने


तू
आ बैठ मेरे साथ
जूते गाँठ
पासी बन
भंगी - चूहड़ा
और चमार बन
इन कामों में
तेरी जात !
कहाँ तेरे साथ आएगी ?



तेरी धूर्तता


तूने
चुना छह दिसम्बर
उस ईमारत को
ढहने का दिन
जिसे तू
सूर्य की नाक से
पैदा हुए
इक्ष्वाकु के
वंशज की
जन्म - भूमि बताता रहा ,
वहां बनी थी ,
ताकि तू मना सके
हर साल
हमारे महाशोक के
महापरिनिर्वाण दिवस पर
हमें धमकाने
अपना शोर्य दिवस !
वर्ना तू चुन सकता था
कोई और दिन
लेकिन तू
हम बहुसंख्यकों को
दबाने का मौका
छोड़ना नही चाहता था
तेरी चालों का पर्दाफाश हो चुका है
धूर्त कहीं के ।



कवि --- असंग घोष
प्रस्तुति ---- मीता दास
साभार ---" समय को इतिहास लिखने दो " { काव्य संकलन }

मेरी बात | समकालीन कविता | कविता के बारे में | मेरी पसन्द | कवि अग्रज
हमसे मिलिए | पुराने अंक | रचनाएँ भेजिए | पत्र लिखिए | मुख्य पृष्ठ