शेन हाइबो
 
शेन हाइबो (1976) का जन्म जेन्गसु राज्य में हुआ, आपने नेशनल स्कूल बीजिंग में पढ़ाई की। आप लोअर बोडी पोइट्री सम्प्रदाय के प्रमुख कवि माने जाते है। हालांकि आपकी वर्तमान कविताएं देह से मन की ओर परावर्तित हुई दीखती हैं। आप Beijing Motie Book Co के संस्थापक और CEO हैं, जो चीन का एक प्रमुख संस्थान है।


शतरंजी


मैं बीजिंग की ओर उड़ान भरते वक्त
बाहर देख रहा हूं
मैं शहर पर एक सफेद
चादर की परत देखता हूं, बर्फ
एक शतरंजी,
लेकिन शतरंज कौन खेल रहा है
मेरे साथ? कोई नहीं, सिर्फ मैं
और डूबता कमबख्त सूरज
हम दोनों बर्फ की शतरंजी के आर पार एक
दूसरे को देख रहे हैं।


अंधेरे में कुछ हो रहा है

कुछ तो हैं जिसके निशान तक मैं
दिन में नहीं देख पाता.
जब वह सोने जाती हैं, तभी मैं उसकी बंद आंखों
को देखता हूं कि वह नींद में कितनी उदास है
शायद नींद में हुई उदासी
शायद वास्तविक उदासी
मैं दिन के उजाले में उसकी जिन्दगी का हिस्सा हूं, लेकिन उसकी
नींद में प्रवेश ही नहीं कर पाता
मैं अपनी खुली आंखों से देखता भर हूं कि
वह नीन्द में कितनी उदास होती है
लेकिन में जान ही नहीं पाता कि
उसकी उदासी का सबब क्या है
शायद अंधेरे में उसकी आत्मा को कुछ
हो जाता है, लेकिन मैं उजालें में
फैंक दिया जाता हूं

-रति सक्सेना द्वारा मिंडी डी द्वारा किये गये अंगेजी अनुवाद से हिंदी में अनूदित

अनुवाद रति सक्सेना
Translated by Rati Saxena


 


मेरी बात | समकालीन कविता | कविता के बारे में | मेरी पसन्द | कवि अग्रज
हमसे मिलिए | पुराने अंक | रचनाएँ भेजिए | पत्र लिखिए | मुख्य पृष्ठ