Gerry Loose
मैडिलिन में बोधिसत्व

मसाज पार्लर के लिए सीड़ियां, एक के लिए दो पीट्जा. बार, घाटे वाले लाटरी टिकिट, कण्डोम, टाफी के पन्नियाँ,खाली सिगरेट के डिब्बे,मिनोटार, और जलपरियाँ , अप्सराएँः,सड़क का जमादार इक्कट्ठा करता है, उड़ाता हॆे फि जमाता है, वह झाड़ू लगाता है, कल इससे भी ज्यादा होंगे।

५४ वीं गली, कालाकस , सध्या को, लकड़ियों से ढ़ंके मैदान में गहरे गड्ढ़े, स्टील की सीढ़ी जगह पर तिरछी पड़ी. वे आते हैं, एक दो तीन चार पाँच , थके लेकिन वे आ गए
बचे हुए
ओह. घर मैं बर्तन साफ करती महिलाओं की हंसी. मेहमानों के सोने के लिए जाने के बाद! ओह उनके आँसू. ओह उनकी दाड़ियां

बन्दूकों की जगह, वह सूखे बालों के साथ , बचे हुए पटाखे, और हंसीं ठहाके।

फूल बेचने वाले ने लिली सजा ली हैं. वह अपनी झाड़ू पर सो रहा है, वह सड़ी हुई खूशबूओं को झाड़ते झाड़ते थक गया

और वह जो कामोत्तेजक चींटियां छौटी सी ट्रे में बेच रहा है

मैडिलिन का बोधिसत्व , चलता जाता है, इधर उधर, मैं तुम्हारे दिल की तस्वीर खींचता हूँ


एक जगह में रहना, एक ही जगह में रहना
स्काटलैण्ड में नौ दिन तक चलने वाली पद यात्रा के दौरान


हैडरविक (Hedderwick)


हम यहाँ पर एक
पतवार रोप सकते थे
लेकिन हमने जमीन को
जोत दिया, संस्कृतियों के
सम्मिश्रण का एक दस्तावेज
जन आवश्यकता को समझे बिना राजादेश
हीथ झाड़ियों की जगह

Odysseus, से कहा गया कि वह एक पतवार कंधों पर रख कर द्वीप में चक्कर लगाए, जब तक कि उसे ऐसी जमीन ना मिल जाए, जो पतवार को पहचान ना सके



हौस्टन मिल (Houston Mill)


विलो की टूटी टहनी
और उसकी नीली आँखें
हमारे साथ चल रही है
हमारा वक्त ढ़ह गया है
हमारी निस्सार राह
एक रास्ता है, यहाँ से वहां तक


क्रेगमूर (Craigmoor)


जमीन की परिकल्पना
इतिहास का निरावृत होना
छोड़ता है सिर्फ बिछुड़े होंठों को
एक बीता गीत
अल्पवयस्कों के लिए
गड़रियों के लिए
पराग कण मक्खियों के लिए



केसल गार्डन का वाटर बियाण्ड (Castle Garden of Water Beyond)


रात का आसमान
जड़ा हुआ है
औरते गा रही हैं
वक्त से चुराया हुआ आखिरी गीत
क्या आधार है
निर्मति का
सत्यता का
 

खड़े पत्थर

प्रेमी को एक खत
निर्वासित छायाओं के बारे में
या फिर ना उठाई जाने वाली छायाओं के बारे में
जमीन की लम्बी उदासियों के बारे में
कोयल के बारे में
ओर यह बताने के लिए
कि यदि हम चाहे तो प्यार बच सकता है


ब्लैक हिल बागान में

ब्लैक हिल में रात
पक्षी की पुकार
गहराती रोशनी
लीफ लाइट की लीफ
छनती हुई
देर तक रहती है

गैरी स्काटलैण्ड के प्रसिद्ध कवि है जो स्काटलैण्डीय द्वीप में रहते हैं, जंगलों में पैदल घूमना उनका शौक है, यहाँ दी गई कविताएं उनकेस्काटलेण्ड के जंगलों में पैदल भ्रमण से निकली हैं.

अनुवाद रति सक्सेना
Translated by Rati Saxena
 

Gerry Loose गैरी स्काटलैण्ड के प्रसिद्ध कवि है जो स्काटलैण्डीय द्वीप में रहते हैं, जंगलों में पैदल घूमना उनका शौक है, यहाँ दी गई कविताएं उनकेस्काटलेण्ड के जंगलों में पैदल भ्रमण से निकली हैं.


मेरी बात | समकालीन कविता | कविता के बारे में | मेरी पसन्द | कवि अग्रज
हमसे मिलिए | पुराने अंक | रचनाएँ भेजिए | पत्र लिखिए | मुख्य पृष्ठ