कविता के बारे में अपर्णा मोहंती की कविताओं में स्त्री-प्रतिरोध का स्वर दिब्य रंजन साहू    विमर्श की दृष्टि से 80 का दशक काफी महत्त्वपूर्ण है। इस समय ‘स्त्री
हर कविता को ऐसे लिखो गोया कि यह तुम्हारी आख़िरी कविता है यह सदी, जो कि प्रदूषण से भीगी है आतंकवाद से कंपित है उड़ती जा रही है सुपरसोनिक
  मदन कश्यप की कविताएं             29 मई 1954 को बिहार राज्य के वैशाली में जन्में वरिष्ठ कवि और पत्रकार मदन कश्यप के अब तक 'पनसोखा
मुहम्मद इक़बाल     मुहम्मद इक़बाल का जन्म 9 नवम्बर 1877 में सिआलकोट में हुआ था। आप एक चिन्तक, कवि और राजनेता थे। आपकी कविताओं में प्रबल देशभक्ति
                आदित्य शुक्ला   फ़ासला   फासले से छुओ ताकि भरभराकर गिर न जाए अगली पंक्ति दूर तक बिखर न जाए थोड़ी दूर तक चलने वाला अकेलापन अनकहे लफ़्ज़ बहुत ख़ामोशी में पगी बेचैनी को
हर कविता को ऐसे लिखो गोया कि यह तुम्हारी आखिरी कविता है यह सदी, जो कि प्रदूषण से भीगी है आतंकवाद से कंपित है उड़ती जा रही है सुपर
                  क्रिस्टीना पिकोज की कविता (Christina Pacosz)Polish/American अनूदित‍‍ -रति सक्सेना घर वापिसी* 1 ज़मीन भूल गई उसे, जब वह घर छोड़ कर गया, बच्चा ही तो था, सेब का दरख्त जिसे लगाने में
अरुण कोलटकर की कविताएं: रूप अरूप कुमार सुशान्त हमारे लिए हमेशा ही यह दिक्कत रही है कि किसी भी निबन्ध की शुरुआत कहां से करूं। बहुत सोच-विचार
                    ओसिफ़ ब्रोद्स्की: Joseph Brodsky (24 मई 1940 – 28 जनवरी 1996) अनूदितः वरयाम सिंह 1940 में लेनिनग्राद में जन्म। 1958 से कविता लिखना आरम्भ। 1956 में हंगरी
  नामदेव भारतीय साहित्य में भक्ति काव्य का विशेष महत्व है। भारत के हर प्रान्त व हर समुदाय में भक्ति साहित्य का योगदान महत्वपूर्ण रहा है। उत्तर